Posts

Latest Update

Mind Power : अवचेतन मन के कार्य - The Role of the Subconscious Mind

Image
(अवचेतन मन के कार्य - The Role of the Subconscious Mind)

दोस्तों आज हम अवचेतन मन के कार्य के बारे में बात करेंगे आज हम जानेंगे अवचेतन मन (Subconscious Mind) किन-किन कार्यों को करता है

चलना-फिरना, हिलना या संवेदना (Body Movement / Mobility) - यह दोनों कार्य हमारे चेतन और अवचेतन मन करते है किन्तु जब हम जागृत अवस्था में होते हैं तब शरीर का हलन चलन और संवेदना पर नियन्त्रण चेतन मन के पास होता है और जब हम नींद में होते हैं तो यही काम हमारा अवचेतन मन करता है l

त्वरित प्रतिक्रिया (Quick Response) -  अवचेतन मन की शक्ति हमें आपातकालीन स्थितियों में बचाती है जैसे हम आग पर पैर पड़ते ही कि अचानक हटा लेते हैं, सांप को देखकर उल्टे पाँव भाग खड़े होते हैं, सीड़ियों से गिरते गिरते संभल जाते हैं और जितने भी त्वरित निर्णय हम लेते हैं वह अवचेतन मन के द्वारा ही लिए जाते हैं क्योंकि चेतन मन के द्वारा अक्सर वो निर्णय लिए जाते हैं जिनमें हमें सोचने समझने का समय मिलता है या हम जिनके बारे में सोच कर समझ करके निर्णय लेते हैं पर जब ऐसी स्थिति होती है जिनमें हम कुछ सोच नहीं या कुछ सोचने समझने का समय नहीं होता और बि…

Mind Power : चेतन मन के कार्य - The Role of the Conscious Mind

Image
चेतन मन के कार्य - The Role of the Conscious Mind

अब हम यहाँ चेतन मन के कुछ मुख्य कार्यों और उनकी शक्ति के बारे में जानने का प्रयास करेंगे l

संवेदना (Sensation) पर नियंत्रण - हमारी आंखें, कान, नाक, जीभ, त्वचा इत्यादि इंद्रियों पर चेतन मन का नियंत्रण होता है, या यह कहे कि हमारी इन साड़ी इंद्रियों को चेतन नियंत्रित करता है l

हलन चलन (Movement) -   हमारे शारीर के हिलने-चलने को भी हमारा चेतन मन ही नियंत्रित करता है l

विचार (Thought) - विचार करना हमारे चेतन मन का कार्य है l जब सुबह हम उठते है तब से ही हमारे मन में विचार शुरू हो जाते हैं और जब हम सो जाते है तो विचार बंद हो जाते हैं क्योंकि चेतन मन नींद में काम नहीं करता किंतु यहां पर यह जानना अनिवार्य है कि नींद में हमारे अवचेतन मन का कार्य जारी रहता है और हमें नींद में आने वाले सपनों के लिए हमारा अवचेतन मन उत्तरदायी है l

तर्क करना (Logic) -   कोई भी कार्य के बारे में सवाल करना जैसे कि क्या है ? क्यों है ? कैसे हैं ? कब है ? इत्यादि यह सब तर्क जो हमारे मन में आते हैं वह चेतन मन करता है l

पृथक्करण (Analysis) - किसी भी पृथक्करण या Analysis के लिए ह…

Mind Power : मन के प्रकार - Types of Mind

Image
चेतन - अवचेतन मन का मानक चित्रण (काल्पनिक)
मन का विभाजन कोई वास्तविक भौतिक विभाजन नहीं है अर्थात मन का विभाजन किसी भौतिक आधार पर नहीं किया जाता बल्कि यह तो मनोविज्ञान की अवधारणा है या फिर ये कहें की मन की अवधारणाएँ है l

मनोविज्ञान (Psychology) में मनुष्य के मन को अलग अलग भागों में रखा गया है या माना गया है l

यद्धपि भिन्न भिन्न विद्वान मन के दौ से ज्यादा भाग या अपने अनुसार मन को आगे के भागों में विभाजित करते है किन्तु मुख्य रूप से मन को दो भागों में माना जा सकता है, जिनकी की हम यहाँ चर्चा करेंगे l

चेतन मन (Conscious Mind)अवचेतन मन (Subconscious Mind)
मनोविज्ञान की इस अवधारणा को समझकर हम अपने जीवन में अकल्पनीय और चमत्कारिक रूप से बहुत बड़े बड़े परिवर्तन ला सकते है l

चेतन मन (Conscious Mind) हमारी चेतन या सक्रीय (Active) अवस्था है जिसमे हम सोच-समझकर, विचारपूर्वक और अपने तर्क के आधार पर निर्णय लेते है या कोई कार्य करते है l

अवचेतन मन (Subconscious Mind) तर्क एवं सोच समझकर निर्णय नहीं लेता बल्कि यहाँ हमारे पिछले अनुभवों एवं अवधारणाओं के आधार पर स्वचालित (Automatic) तरीके से कार्य करता है l

चे…

Mind Power : मन क्या है ? - What is Mind ?

Image
इस श्रृष्टि का सबसे शक्तिशाली प्राणी "मानव" अर्थात हम हैं, और मानव की इस उपलब्धि एवं उपाधि के लिए उसका मस्तिष्क उत्तरदायी है। ये मानव मस्तिष्क ही है जो मानव को सभी जीवों में सर्वश्रेष्ट बनाता है। हमारे आदि मानव से आधुनिक मानव बनाने में सर्वाधिक योगदान मानव मस्तिष्क का ही है। जैसे जैसे हमारी दिमागी समझ बढती गयी वैसे वैसे हम प्रगतिपथ पर आगे बढते गए और आधुनिक मानव उसी क्रम की एक अवस्था है।

सतही तौर पर यदि मानव मस्तिष्क को समझा जाये तो यह भी मानव अंगो की तरह ही हमारी शारीरिक बनावट में ही शरीर का एक आंतरिक भाग है। वास्तव में मानव मस्तिष्क हमारे शरीर का एक आंतरिक किन्तु एक भौतिक अंग है जिसे हम देख सकते है छू सकते है। किन्तु वहीँ हमारा "मन" एक ऊर्जा है जो की इस मस्तिष्क के द्वारा उत्पन्न होती है और जिसे केवल महसूस ही किया जा सकता है किन्तु मूर्त रूप से देखा या छुआ नहीं जा सकता। गहराई से समझने पर हमें ज्ञात होगा की हमारा मस्तिष्क केवल एक मशीन है जो की विचार रुपी उर्जा उत्त्पन्न करता है, और ये विचार ही इस श्रृष्टि में मानव के द्वारा किये जाने वाले हरेक कार्य के लिए उत्तरदा…

गणेशोत्सव की कोटि कोटि हार्दिक बधाई

Image
सभी पाठक गणों को गणेशोत्सव की कोटि कोटि हार्दिक बधाई

संक्षिप्त परिचय - Short Introduction

मै सन 2009-2010 से ब्लॉग लिखने के बारे में सोच रहा था, हां मैने कहाँ मै सोच रहा था क्योंकी मै लिख तो पाया नहीं था और व्यावहारिक रूप से अगर में लिख नहीं पाया था तो बाकी सब तो बस खयाली पुलाव ही थे, मेरा मतलब है की मेरा लिखना चालू तो था पर बस खयालो में ... हालांकि लिखने के लिए बहुत कुछ था, है और रहेगा ... और जो कुछ लिखना था उन विषयों पर मैंने बहुत अध्यन किया, सुना, समझा ... लिखने के लिए विषयों की कमी नहीं थी पर कभी शुरुआत ही नहीं कर पाया और हर बार बस यही मलाल रहता की काश मुझे छोटी सी ही सही, पर शुरुआत तो करनी चाहिए और बस शुरुआत के बारे में सोचता ही रह जाता ... और कभी-कभी जब लिखने बैठता तो इस उलझन में पड जाता की शुरुआत कहाँ से करूँ ? एक अच्छी और शानदार शुरुआत करने के लिए क्या लिखू ... कभी लगता मेरे स्वयं के बारे में बताऊँ, मेरे बारे में परिचय देते हुए कुछ लिख दूं, तो कभी मन इस उलझन में पड जाता की मेरे पास लिखने के लिए जो हजारो विषय है पर इन सबमें से पहले क्या लिखू और शुरुआत किस विषय से करूं ? बस इसी कश्मकश में समय निकलता गया और मै सोचता ही रहा ... और आज के समय में जैसा की हम देखते है हर …

गणेशोत्सव की हार्दिक बधाई

Image
श्री वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटी समप्रभा निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्व-कार्येशु सर्वदा॥
आप सभी पाठकगणों को गणेश चतुर्थी (गणेशोत्सव) की कोटि कोटि हार्दिक बधाई